Current Crime
उत्तर प्रदेश राज्य

इलाहबाद का नाम प्रयागराज कर भाजपा ने किया खुद को मिटाने का कार्य: प्रो. इरफान हबीब

अलीगढ़ (ईएमएस)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के फैजाबाद का नाम अयोध्या व इलाहाबाद का नाम प्रयागराज करने को प्रख्यात इतिहासकार व एएमयू के एमरेट्स प्रोफेसर इरफान हबीब ने हिदुंत्व की फिलॉस्फी लागू करना करार दिया है। कहा है कि सरकार दर्शाना चाहती है कि इन शहरों में कभी हिंदू-मुसलमान या मुगल बादशाह थे ही नहप, जिन्होंने इलाहाबाद का किला बनाया, आगरा का ताजमहल बनाया
प्रो. इरफान ने कहा कि सभी को पता है कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी के कार्यकाल में यूपी सरकार ने मांग की थी कि लखनऊ का नाम लक्ष्मणपुरी हो जाए। बाजपेयी ने कहा था कि मुझे तो लखनऊ ने जिताया है, मैं तो लखनऊ का प्रतिनिधित्व करता हूं। तब यह बात दब गई थी। ताज्जुब है कि लखनऊ को अभी तक लक्ष्मणपुरी क्यों नहप किया गया? फैजाबाद जिले का नाम इसलिए बदलना कि वह फारसी नाम है तो यह समझ से परे है।
इलाहाबाद का नाम प्रयागराज कर भाजपा ने खुदा का नाम मिटाने का काम किया है। भाजपाइयों को पहले अपने नाम बदलने चाहिए। किसी का नाम मजूमदार है तो किसी का नाम अमित शाह। जमीरउद्दीन शाह तो ठीक है, क्योंकि जमीरउद्दीन अरबी और शाह फारसी लब्ज है। अमित शाह तो कहते हैं कि हम तो निरे हिंदुस्तानी हैं तो वो अपना नाम बदल लें।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: