Current Crime
विदेश

सपने में आया एलियन, दिया यूएफओ लैंडिंग पैड बनाने का आदेश

ब्यूनस आयर्स (ईएमएस)। दुनिया में ऐसे लोगों की कमी नहीं है, जो दूसरे ग्रह के प्राणियों के वजूद और उनके साथ अपने संपर्क के बारे में बातें करते हैं। ऐसी ही एक घटना अर्जेंटीना में हुई। अर्जेंटीना के रेगिस्तान के बीच में एक व्यक्ति ने ‘यूएफओ लैंडिंग पैड’ बनाया गया है। यूएफओ का मतलब ‘अनआइडेंटिफाइड फ्लाइंग आब्जेक्ट है, जो उड़न तस्तरियों के लिए इस्तेमाल होता है। उस व्यक्ति ने दावा किया कि एलियंस ने सपने में आकर उसे लैंडिंग पैड बनाने को कहा। लैंडिंग पैड सितारा के आकार में सफेद और भूरे रंग की चट्टानों को मिला कर बनाया गया है, जिसे ‘ओवनिपोर्ट’ कहा जाता है। यह साल्टा प्रांत में कची के छोटे शहर में है। मान्यता है कि स्विस नागरिक वर्नर जैस्ली ने इसे बनाया है। जैस्ली ने बाह्य अंतरिक्ष की तलाश में इस क्षेत्र की यात्रा की थी। हाल के दिनों में बड़ी संख्या में लोग इस साइट को देखने के लिए आ रहे हैं, क्योंकि यह अपने आप में आश्चर्यजनक है। इस जानकारी को हवाई छवियों द्वारा हाइलाइट किया गया है। अर्जेंटीना की यात्रा के बाद जैसल ने यह दावा किया कि उन्हें एलियंस से ‘टेलीपैथिक संदेश’ मिला है। इसमें उसे बताया गया है कि उन्हें धरती पर उतरने के लिए एक जगह चाहिए।
उसने अर्जेंटीना के एक अखबार से बातचीत में कहा कि एलियंस हमारे सिर से लगभग 100 मीटर ऊपर उतरे। उनके साथ प्रकाश की एक पुंज आया, जिसमें हमें अपनी चमक दिखाई दी। मजे की बात यह है कि यह हमारी दृष्टि को प्रभावित नहीं करता। इस दौरान मेरे दिमाग ने कोई संदेश ग्रहण किया, यह वास्तव में एलियंस का आदेश था। उन्होंने मुझे टेलीपैथिक रूप से हवाई अड्डे के निर्माण के बारे में पूछा। सन 2008 में 48 मीटर व्यास का एक बड़ा सितारा बनाया गया। पर्यटकों के साथ यूएफओ के लिए उत्साही लोगों के बीच यह साइट बेहद लोकप्रिय है।
हालांकि, ‘ओवनिपोर्ट’ के निर्माण के तुरंत बाद कची के आस-पास के स्थानीय लोगों को जैसल नहीं दिखे। जैसल ने बड़ी दाढ़ी रखा रखी थी और वह अक्सर पुरोहितनुमा पोशाक पहनते थे। ऐसा माना जाता है कि वह बोलीविया चले गए। कुछ लोगों ने यह भी अनुमान लगाया कि वह वापस स्विट्जरलैंड चले गए।
आप ने उड़नतश्तरियों और एलियंस के अनेक किस्से तो पढ़े-सुने होंगे। क्या ये किस्से सही और सच्चे हैं? हाल के सालों में इस संबंध में जो नए तथ्य सामने आए हैं, वे यही इशारा करते हैं कि उड़नतश्तरियों में बैठे एलियंस की कहानियां काफी हद तक हकीकत साबित हो रही हैं। यहां तक कि प्रसिद्ध वैज्ञानिक स्‍टीफन हॉकिंस ने एलियंस की सच्‍चाई को बयां किया था। लगता है कि अब कुछेक सालों में ही ये कथा कहानियां सच हो जाएंगी। हम इन एलियंस के सीधे संपर्क में होंगे। ऐसा उन लोगों का मानना है जो विश्व की अंतरिक्ष एजेंसियों में काम करते हैं और चंद्रमा पर हो आए हैं या फिर बरसों अनुसंधान कर चुके विश्वविख्यात जर्नलिस्ट हैं। अमेरिका के तीन चौथाई नागरिक उड़नतश्तरियों के अस्तित्व के बारे में पूरी तरह आश्वस्त हैं।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: