Current Crime
बॉलीवुड

खान तिकड़ी को पछाड़ अक्षय कुमार बने नंबर वन अभिनेता

मुंबई। वैश्विक महामारी कोरोना ने बॉलीवुड को भी नहीं बख्शा यहां फिल्मों को शूट किए जाने और उन्हें रिलीज किए जाने की रफ्तार पहले से काफी कम हो गई है। पिछले कुछ महीने तो एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री के लिए काफी बुरे रहे लेकिन अब धीरे-धीरे गाड़ी वापस पटरी पर लौटती नजर आ रही है। फिल्मों और टीवी शोज को शूटिंग की परमिशन मिलती जा रही है और कलाकारों में भी तकरीबन हर उम्र वर्ग के कलाकारों को काम करने की इजाजत दे दी गई है। पिछले कुछ महीनों में फिल्मों की रिलीज भले ही काफी कम रही हो लेकिन यदि अब फिल्मों को रिलीज किया जाएगा तो किस कलाकार की फिल्म के ज्यादा बेहतर प्रदर्शन करने की गुंजाइश है? एक सर्वे जिसमें 12 हजार 21 लोगों से बात की गई। इनमें से 67 फीसदी ग्रामीण जबकि शेष 33 फीसदी शहरी थी।
जब इन लोगों से पूछा गया कि उनकी नजर में कौन सा कलाकार देश का नंबर वन हीरो है, तो 24 प्रतिशत ने अक्षय कुमार का नाम लिया। 23 प्रतिशत ऐसे थे जिन्होंने अमिताभ बच्चन को देश का नंबर वन एक्टर बताया। शाहरुख खान इस सर्वे में 11 प्रतिशत वोट के साथ तीसरे नंबर पर रहे और 10 प्रतिशत वोट के साथ सलमान खान को चौथी पोजीशन मिली। आमिर खान को महज 6 प्रतिशत लोगों ने चुना और अजय देवगन, रणवीर सिंह व ऋतिक रोशन को 4 प्रतिशत लोगों ने वोट किया। 2 प्रतिशत लोगों ने माना है कि रणबीर कपूर और शाहिद कपूर देश के नंबर वन हीरो हैं। वहीं आयुष्मान खुराना, सैफ अली खान, कार्तिक आर्यन और राजकुमार राव को महज 1 प्रतिशत लोगों ने देश का नंबर वन हीरो बताया। इसके अलावा 5 प्रतिशत लोग ऐसे थे जिन्होंने इस लिस्ट के अलावा किसी और कलाकार को देश के नंबर वन हीरो के तौर पर चुना।

19 राज्यों की कुल 97 लोकसभा और 194 विधानसभा सीटों के लोग सर्वे में शामिल किए गए। जिन 19 राज्यों में ये सर्वे किया गया उनमें आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, झारखंड, कर्नाटक, केरल, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल शामिल हैं। ये सर्वे 15 जुलाई से 27 जुलाई के बीच किया गया। सर्वे में 52 फीसदी पुरुष, 48 फीसदी महिलाएं शामिल थीं। अगर धर्म के नजरिए से देखा जाए तो 86 फीसदी हिंदू, 9 फीसदी मुस्लिम व पांच फीसदी अन्य धर्मों के लोगों से उनकी राय जानी गई। जिन लोगों पर सर्वे किया गया उनमें 30 फीसदी सवर्ण, 25 फीसदी एससी-एसटी व 44 फीसदी अन्य पिछड़े वर्ग के लोग शामिल थे। सर्वे में शामिल 57 फीसदी लोग 10 हजार रुपये महीने से कम की आमदनी वाले थे जबकि 28 फीसदी 10 से 20 हजार रुपये और 15 फीसदी 20 हजार रुपये महीने से ज्यादा कमाने वाले लोग थे। सर्वे के सैंपल में किसान, नौकरीपेशा, बेरोजगार, व्यापारी, छात्र आदि को शामिल किया गया था।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: