Breaking News
Home / अन्य ख़बरें / 18 दिन बाद मिला नाबालिग नीलम का शव, एसओ सस्पेंड

18 दिन बाद मिला नाबालिग नीलम का शव, एसओ सस्पेंड

4सारे दिन आधा दर्जन से अधिक थानों की पुलिस का लगा रहा जमावड़ा 4पीएम रिपोर्ट व शव आने की प्रतीक्षा करती रही पुलिस 4आधा दर्जन से अधिक थानों की पुलिस रही तैनात
मोदीनगर (करंट क्राइम)। एक निजी स्कूल में पढ़ने वाली 10 वीं कक्षा की छात्रा के लापता होने के मामले में मोदीनगर पुलिस छात्रा का कोई सुराग नही लगा पाई आखिर परतापुर पुलिस ने नाबालिग का शव थाना परतापुर से बरामद किया है। इस घटना के बाद सारे दिन भारी पुलिस बल तैनात लगा रहा। पुलिस सारे दिन पीएम रिपोर्ट व शव आने की प्रतीक्षा करती रही। देर शाम पुलिस ने सुरक्षा कारणों के मद्देनजर छात्रा के शव को को उसके पैतृक गांव भेज दिया है।
बता दे कि कृष्णा नगर निवासी यशपाल शर्मा की नाबालिग पुत्री नीलम जो एक नीजी स्कूल में कक्षा 10 वीं की छात्रा थी। 26 दिसंबर को मां द्वारा मोबाइल का इस्तेमाल करने के को लेकर हुई कहासुनी के बाद वह उसी दिन से लापता हो गई थी। परिजनों ने किसी अनहोनी के चलते थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई है। पुलिस ने इस मामले में करीब पचास से अधिक युवकों को हिरासत में लेकर पूछताछ की थी। इतना ही नही पुलिस ने भारी दबाब के चलते करीब एक दर्जन से अधिक जनपदों व हरियाणा के हिसार में भी छापेमारी की थी, लेकिन पुलिस को कोई कामयाबी नही मिली।
एसपी देहात अरविन्द कुमार मौर्य ने बताया कि शुक्रवार की रात करीब 8 बजे परतापुर पुलिस ने सूचना दी कि एक युवती छात्रा की लाश थानाक्षेत्र के गांव अघैड़ा के जंगल से बरामद की है। मोदीनगर पुलिस रात में ही लापता छात्र के पिता यशपाल को लेकर घटना स्थल पर पंहुची और युवती की शिनाख्त करने की बात कही, लेकिन पिता ने युवती की शिनाख्त में अनभिज्ञता जाहिर की तो उसकी पत्नी व दूसरी पुत्री ज्योति ने मृतका की शिनाख्त नीलम के रूप में की। पुलिस ने रात में ही मोदीनगर पुलिस के सहयोग से शव को मेरठ में ही पीएम के लिये भेज दिया। सुबह यह खबर शहर में आग की तरह फैल गई। पुलिस ने बताया कि शव देखने में ताजा ही लग रहा था। उसके चेहरे व गले पर फंदा लगाकर मारने के निशान साफ दिखाई दे रहे थे। शनिवार की सुबह से ही थाने में पुलिस व लोगों का जमावड़ा लग गया। भोजपुर, निवाड़ी, मोदीनगर, मुरादगनर व लोनी आदि थानों की पुलिस मौजूद रही। थाने में सदर सीओ, गाजियाबाद सीओ, लोनी सीओ, मसूरी सीओ समेत भारी पुलिस बल मौजूद देर रात तक मौजूद रहा।
सुरक्षा के कारणों के चलते भेजा शव मथुरा
शहर के हालात बिगड़ने व किसी आंदोलन की सुगबहाट के चलते पुलिस ने सारे मामले को बाहर से ही मैनेज कर छात्रा के शव को मथुरा के लिये भेज दिया, लेकिन देर शाम तक थाने के बाहर लोगों को जमावड़ा लगा रहा।
शासन को भेजी आर्थिक
मदद की सिफारिश
एसपी देहात अरविन्द कुमार ने बताया कि सारे घटना की विवेचना की जा रही है। पीएम रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। उन्होंने बताया कि मामला की शीघ्र खुलासा होगा। साथ ही पीड़ित परिवार को आर्थिक मदद के लिये उन्होंने शासन को संस्तुति कर भेजे जाने की बात कही है।
सीओ का स्थानांतरण, एसएचओ संस्पेंड
छात्रा के लापता होने व उसका शव परतापुर थानाक्षेत्र के अन्तर्गत गांव अघैडा में मिलने की घटना के बाद एसएसपी हरिनारायण सिंह ने तत्काल प्रभाव से सीओ मोदीनगर राज कुमार सिंह का तवादला किसी अन्य स्थान पर व एसएचओ नीरज कुमार सिंह को लापरवाही बरतने के आरोप में सस्पेंड कर दिया है।
निकाला कैंडल मार्च
शहीद भगत सिंह समाज कल्याण ट्रस्ट के नेतृत्व में छात्रा की मौत पर गुस्साऐं युवकों ने थाने में सामने मौन जुलूस निकाला और मृतका की आत्म की शांती के लिये कैंडल मार्च निकाला। इस दौरान मार्च का नेतृत्व कर रहे समाजसेवी लोकेन्द्र आर्य, कपिल चैधरी, दिंविजय सिह, सुनील शर्मा आदि मौजूद रहें।
पीएम के बाद शव भेजा मथुरा
पुलिस ने सारे घटनाक्रम पर पूरे दिन अपनी नजर गड़ाये रखी और मेरठ में छात्रा के पीएम होने के बाद उसके परिजनों को समझा बुझा कर शव पैतृक निवास मथुरा भेज दिया है।

Check Also

सामाजिक सरोकारो के इस जज्बे को सलाम

Share this on WhatsAppना राजनीतिक टिकट चाहिये ना पद चाहिये वरिष्ठ संवाददाता (करंट क्राइम) गाजियाबाद। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *