धार्मिक भावनाएं भड़काने के आरोप में अभिनेता एजाज खान गिरफ्तार

0
80

मुंबई, (ईएमएस)। मुंबई पुलिस ने धार्मिक भावनाएं भड़काने के आरोप में अभिनेता एजाज खान को गिरफ्तार किया है. एजाज खान को विवादित वीडियो बनाने और धार्मिक सौहार्द को नुकसान पहुंचाने को लेकर बनाई गई वीडियोज के चलते गिरफ्तार किया गया है. इस बात की जानकारी मुंबई पुलिस ने एक बयान जारी कर दी है कि एजाज खान को गिरफ्तार कर लिया गया है. मुंबई पुलिस ने अपने बयान में कहा,” एक्टर एजाज खान को गिरफ्तार किया गया है. उनके खिलाफ आपत्तिजनक वीडियो बनाने और अपलोड करके धर्म के नाम पर अलग-अलग ग्रुप्स में बड़े पैमाने पर लोगों को प्रभावित करने और नफरत फैलाने को लेकर मामला दर्ज किया गया है.” एजाज़ खान पर आईपीसी की धारा 153(ए) , 34 और आईटी एक्ट की धारा 67 के तहत आपराधिक मामला दर्ज किया है. पुलिस इस मामले की जांच कर रही है. बता दें कि एजाज खान पर तबरेज अंसारी मौत मामले को लेकर हिंसा फैलाने और भड़काऊ वीडियो बनाने के आरोपों का सामना कर रहे टिकटॉक के 07 ग्रुप का समर्थन करने का भी आरोप है. पांच लड़कों के इस ग्रुप पर मुंबई पुलिस ने आपराधिक मामला दर्ज किया था. इन आरोपी लड़कों के समर्थन में एजाज उतर आए थे और उन्हें अपने दफ्तर में बुलाकर कई टिक टॉक वीडियो बनाए थे. इन्हीं वीडियो में एजाज़ ने आरोपी फैजु के साथ कई ऐसे वीडियो बनाए जो दो समुदायों में नफरत फैलाने और धार्मिक भावना भड़काने की श्रेणी में आते हैं. एजाज खान लगातार सोशल मीडिया एप टिकटॉक पर 07 के ग्रुप के एक शख्स के साथ वीडियो बनाते और साझा करते नजर आते हैं. साथ ही उन्हीं में से एक वीडियो में वो मुंबई पुलिस का मजाक भी उड़ाते नजर आए थे. मुंबई पुलिस का मजाक उड़ाते हुए कहा गया था कि अब अगर कोई आतंकी बनता है तो कुछ मत कहना.
– तबरेज अंसारी मौत मामला
जून के महीने में झारखंड के सरायकेला खरसावां में भीड़ की हिंसा (मॉब लिंचिंग) का मामला सामने आया था. जिसमें भीड़ की हिंसा का शिकार हुए तबरेज अंसारी नाम के शख्स की मौत हो गई थी. आरोप लगाया गया कि बाइक चोर होने के शक में एक 24 वर्षीय तबरेज अंसारी को भीड़ ने पीट-पीटकर बुरी तरह जख्मी कर दिया था और जिसे बाद में पुलिस के हवाले कर दिया गया था. बाद में उसकी अस्पताल में मौत हो गई. तबरेज के एक संबंधी ने कहा कि कथित चोरी की वजह से नहीं बल्कि उसकी हत्या सांप्रदायिक कारणों से हुई है. उसे जय श्रीराम और जय हनुमान जैसे नारे लगाने को मजबूर किया गया. इस मामले को लेकर धार्मिक हिंसा को भड़काने वाले वीडियो टीकटॉक पर शेयर करने को लेकर ही 07 ग्रुप पर मुंबई के साइबर सेल ने कार्रवाई की थी.