Current Crime
उत्तर प्रदेश राज्य

यूपी के 83 पूर्व अफसरों ने योगी से मांगा इस्तीफा, कहा हिंसा पर नहीं, गोकशी पर ज्यादा ध्यान

लखनऊ (ईएमएस)। उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में पिछले दिनों हुई हिंसा को लेकर राज्य के पूर्व नौकरशाहों ने योगी सरकार के प्रति अपनी नाराजगी जताई है। 83 अवकाशप्राप्त नौकरशाहों ने बुलंदशहर हिंसा के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इस्तीफा मांगा है। खुले खत में अवकाशप्राप्त अफसरों ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुलंदशहर हिंसा को गंभीरता से नहीं लिया है। वह सिर्फ गोकशी पर ही ज्यादा ध्यान दे रहे हैं। आपको बता दें कि पूर्व नौकरशाहों का यह खत तब सामने आया है जब बुलंदशहर हिंसा की जांच एसआईटी ने पूरी कर ली है। जांच में खुलासा हुआ है कि हिंसा से पहले गोकशी हुई थी। इस आरोप में चार लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का इस्तीफा मांगने वालों में पूर्व अफसर बृजेश कुमार, अदिति मेहता, सुनील मित्रा जैसे बड़े अफसर शामिल हैं। अफसरों ने आरोप लगाया कि बुलंदशहर हिंसा को राजनीतिक रंग दिया गया है।
अधिकारियों ने बताया कि उन्होंने इससे पहले भी कई मसलों पर खुला खत लिखा है। बुलंदशहर हिंसा को लेकर उन्होंने कहा एक पुलिस वाले की भीड़ द्वारा हत्या किया जाना बहुत दर्दनाक है, इससे राज्य की कानून व्यवस्था पर कई तरह के सवाल खड़े होते हैं। उन्होंने अपील की कि इलाहाबाद हाई कोर्ट को इस मामले में संज्ञान लेना चाहिए और हिंसा से जुड़े पूरे मामले की जांच होनी चाहिए। आपको बता दें कि 3 दिसंबर, 2018 को पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में गोकशी की खबर के बाद हिंसा फैल गई थी। इस दौरान भीड़ ने बुलंदशहर की स्याना पुलिस चौकी पर हमला किया था, इसी में पुलिसकर्मी सुबोध कुमार सिंह की मौत हो गई थी। इस हिंसा में एक अन्य युवक की भी मौत हुई थी।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: