सौरभ भारद्वाज बोले, असामाजिक तत्वों को उकसाते है, जिससे वो हमला करें दिल्ली विवि में फिर से चुनाव कराने पर संशय बरकरार, हाईकोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा वैश्विक प्रतिभा सूची में भारत दो पायदान फिसलकर 53वें स्थान पर, स्विट्जरलैंड शीर्ष पर पीएम मोदी ने ‘कारोबार में सुगमता’ से जुड़े ग्रैंड चैलेंज का किया शुभारंभ भारत-ऑस्ट्रेलिया पहला टी20 आज, आठवीं श्रृंखला जीतने उतरेगी टीम इंडिया दोपहर 1.20 से शुरु होगा मुकाबला स्मिथ और वॉर्नर की वापसी की उम्मीदें टूटी, सीए ने प्रतिबंध बरकरार रखा मैरी कॉम सेमीफाइनल में पहुंची टीम इंडिया ने 12 खिलाड़ियों की घोषणा की धारा 144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी सायबर कैफे संचालकों को करना होगा आदेश का पालन हर्षिता तोमर ने मध्यप्रदेश को दिलाया स्वर्ण पदक खेल संचालक ने बधाई दी
Home / राज्य / हिमाचल में बरसात में इस बार 35 लोग मारे गये

हिमाचल में बरसात में इस बार 35 लोग मारे गये

शिमला (ईएमएस)। हिमाचल में इस बार बरसात के दौरान भारी बारिश की वजह से बड़े पैमाने पर जानमाल का नुक्सान हुआ है। सरकारी आंकड़ो के मुताबिक इस बार प्रदेश में भारी बरसात की वजह से 35 लोग मारे जा चुके हैं व प्रदेश का 1070.47 करोड़ का नुकसान हुआ है। हालांकि अभी भी बरसात का कहर जारी है। लिहाजा यह आंकड़ा और ज्यादा बढ़ सकता है।
विधानसभा के मानसूनसत्र की समाप्ति से पहले सदन को प्रदेश के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने विधायक बिक्रम सिंह के लिखित प्रश्न के उत्तर में बताया कि बरसात की वजह से 232 पशुओं के पानी में बहने से मौत हो गई। और 1613 मकान गिरे। अकेले प्रदेश के जिला कांगड़ा में सबसे अधिक नुकसान हुआ । इस जिला में दो लोगों और 78 पशुओं की मौत हुई है, जबकि 466 मकान गिरे हैं। वहीं मंडी में 5 लोगों की मौत 56 पशु मरे और 171 मकान ध्वस्त हुए हैं। उन्होंने कहा कि बिलासपुर, चंबा, कांगड़ा, किन्नौर, शिमला में दो-दो लोगों की मौत हुई, जबकि कुल्लू, ऊना में तीन-तीन सोलन में 10, मंडी में पांच लोगों की मौत हुई है।
लोक निर्माण विभाग को 672.05 करोड़, आईपीएच 266.27, विद्युत बोर्ड 24.49, कृषि 75.82, उद्यान विभाग 5.79, शिक्षा को 3.87, मत्स्य 0.63 और पशुपालन विभाग को 0.08 करोड़ का नुकसान हुआ है।
इस बार मानसून सत्र के दौरान कुल मिलाकर 272 तारांकित तथा 84 अतारांकित प्रश्नों की सूचनाओं पर सरकार द्वारा उत्तर उपलब्ध करवाए गए। नियम-61 के अन्तर्गत 5 विषयों, नियम – 62 के अन्तर्गत 6 विषयों, नियम-63 के अन्तर्गत 2 विषयों व नियम-130 के अन्तर्गत 4 प्रस्तावों पर चर्चा हुई, इसके अतिरिक्त नियम 101 के अन्तर्गत 3 गैर-सरकारी संकल्प तथा पिछले सत्र में प्रस्तुत संकल्प पर भी चर्चा की । नियम-324 के अन्तर्गत विशेष उल्लेख के माध्यम से 24 विषय सभा में उठाये गये । सभा की समितियों ने भी 49 प्रतिवेदन सभा में प्रस्तुत एवं उपस्थापित किये।

Check Also

सरकार में हिम्मत है तो मुझे गिरफ्तार करके बताए पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा

भोपाल (ईएमएस)। प्रदेश की भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *