सबरीमला पर पुनर्विचार याचिकाओं की सुनवाई की तिथि पर फैसला आज आईटीओ स्काईवॉक पर इश्क फरमा रहे जोड़ों की निगरानी करेगें बाउंसर्स दिल्ली हाईकोर्ट के चार जजों ने ली पद व गोपनीयता की शपथ बिना बताये घर से गये युवक का शव पेड पर लटका मिला राहुल को शोभा नहीं देता बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान का माखौल उड़ाना : भाजपा पीटने की धमकी देने वाले श्रीसंत अखाड़े में नहीं झेल सके दो वार अनावरण कार्यक्रम के लिए सीएम और राज्यपाल को दिया न्योता मुद्दों से जनता का ध्यान भटकाती है भाजपा सरकार: गहलोत पीएम मोदी फेंकू तो सीएम योगी हैं ठोकू: राज बब्बर महापुरूषों को सम्मान देकर मोदी सरकार इतिहास को ‘राइट’ कर रही : नकवी पिछली सरकार एक ही परिवार को बढ़ावा देती रही
Home / अन्य ख़बरें / डीएम रितु माहेश्वरी के प्रयासों से 220 स्कूल बने आदर्श विद्यालय

डीएम रितु माहेश्वरी के प्रयासों से 220 स्कूल बने आदर्श विद्यालय

वरिष्ठ संवाददाता (करंट क्राइम)

गाजियाबाद। जिलाधिकारी के रूप में रितु माहेश्वरी की कार्यशैली ने अब अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है। उन्होंने जिले के प्राथमिक विद्यालय और परिषदीय विद्यालयों के सुधार को लेकर जो मुहिम चलाई थी अब वह मुहिम रंग ले आई है। जिले के 398 परिषदीय प्राथमिक विद्यालय, 195 उच्च प्राथमिक विद्यालयों में से जनपद के 120 परिषदीय विद्यालय प्रथम चरण में और 100 विद्यालय द्वितीय चरण में आदर्श विद्यालय के रूप में विकसित हो गए है। गौरतलब है कि प्रदेश सरकार की प्रमुख प्राथमिकताओं में प्राथमिक शिक्षा को प्रथम वरीयता दी गई है। जनपद गाजियाबाद में परिषदीय विद्यालयों को आदर्श विद्यालय बनाने हेतु एक कार्य योजना बनाई गई थी। जिसमें जिला प्रशासन, ग्राम पंचायत विभाग और बेसिक शिक्षा विभाग को मिलकर काम करना था।
डीएम के रूप में चार्ज संभालने के बाद रितु माहेश्वरी ने इस प्रोजेक्ट पर सबसे ज्यादा फोकस किया। उन्होंने खुद इस पूरी योजना की मॉनिटिरिंग की। जिसके बाद परिषदीय विद्यालयों को आदर्श विद्यालय के रूप में विकसित करने के लिए जिला पंचायत राज विभाग, स्वयं सेवी संस्थाओं, बैंकों और बेसिक शिक्षा विभाग के बीच समन्वय का सेतु बनाया गया। इस टीम ने मिलकर विभिन्न कार्य कराए। जनपद के लिए हर्ष की बात यह है कि प्रथम चरण में 120 परिषदीय विद्यालय और द्वितीय चरण में 100 स्कूल आदर्श विद्यालय के रूप में विकसित हो गए है। अभी तृतीय चरण में शेष 378 विद्यालयों को आदर्श विद्यालय के रूप में विकसित कर लिया जाएगा। बताया जाता है कि मार्च महीने तक यह लक्ष्य प्राप्त हो जाएगा। बताते हैं कि शासन द्वारा इस मौके पर एक पुस्तिका भी प्रकाशित की जा रही है। जिसमें इस अभियान की कार्य योजना की झलक भी दिखाई जाएगी। जनपद के लिए यह एक गौरव की बात होगी, जब शिक्षा के क्षेत्र में सरकारी स्कूलों का नाम आदर्श विद्यालय के रूप में आएगा और इसके लिए डीएम रितु माहेश्वरी के साथ पूरी टीम को इसका क्रेडिट मिलेगा।

Check Also

‘अरेंज्ड’ हलाला इस्लामिक नहीं है­ : दारुल उलूम

मुजफ्फरनगर (ईएमएस)। मुसलमानों में ‘अरेंज्ड’ हलाला इस्लामिक नहीं है और ऐसा करने वाले लोगों को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *