एक्सप्रेसवे बस हादसे में दम घुटने से हुई 12 लोगों की दर्दनाक मौत

0
64

आगरा (ईएमएस)। आगरा में यमुना एक्सप्रेसवे पर हुए जनरथ बस हादसे के 48 घंटे से ज्यादा बीत चुके है और अब तक 30 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, दो की हालत अभी भी गंभीर बनी हुई है। साथ ही अलग-अलग स्तर पर हादसे की जांच रिपोर्ट भी आ चुकी है, जिसमें बस की ओवर स्पीड और ड्राइवर को झपकी आने की बात कही जा रही है। मृतकों की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट भी आ चुकी है। हादसे में 17 यात्रियों की मौत सिर में गंभीर चोट लगने की वजह से हुई है। जबकि मरने वालों में 12 यात्री ऐसे हैं, जिन्हें इस तरह की कोई गंभीर चोट नहीं लगी है, जिससे मौत हो सके, लेकिन जिस तरह से उनकी मौत की वजह सामने आई है, वो खासी दहलाने वाली है।
आगरा के एसएन अस्पताल में सभी मृतकों के किए पोस्टमॉर्टम की रिपोर्ट के अनुसार 12 यात्रियों की मौत दम घुटने और पेट में पानी भरने से हुई है। उनके शरीर पर लगी चोट ऐसी नहीं थी, जिससे उनकी मौत हो सके। यह वो लोग थे, जो मौके पर दम तोड़़ चुके यात्रियों के बीच फंसे हुए थे। शरीर पर लगे निशान और पेट में पानी भरने की कहानी बताती है कि इन्हें हाथ-पैर चलाने तक का मौका नहीं मिला। 12 यात्रियों में से कुछ ऐसे भी थे, जो जल्दी ही बेहोश हो गए थे और बाद में धीरे-धीरे नाले का गंदा पानी उनके पेट में भर गया। पोस्टमॉर्टम करने वाले डॉक्टर ने बताया कि यदि इन 12 लोगों को ज़रा सी भी सांस लेने का मौका मिल जाता, तो इनकी मौत नहीं होती। वहीं बस की खिड़कियों के शीशे बंद होने से भी इन्हें बाहर की हवा नहीं मिली। वरना बस का जो हिस्सा नाले में नहीं डूबा था, वहां से उन्हें सांस लेने के लिए हवा मिल सकती थी।