मुश्किलों के दौर में कांग्रेस के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू

0
2

कुशीनगर(ईएमएस)। उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और तमकुहीराज के विधायक अजय कुमार लल्लू की छठ बाद मुश्किले बढ़ सकती है। विधायक के खिलाफ जारी गैर जमानती वारंट के बाद भी न्यायालय में उपस्थित न होने पर न्यायालय ने विधायक के खिलाफ कुर्की और गिरफ्तारी का वारंट जारी किया है। जिसको लेकर विधायक के घर छठ पूजा के बाद पुलिस नोटिस तामिल कराने पहुंच सकती है। उक्त मामले में कोर्ट ने 24 नवंबर को अगली तारीख सुनिश्चित किया है।
ज्ञात हो कि अजय कुमार लल्लू के विधायक बनने से पूर्व संघर्ष के दिनों में रेल संचालन को बाधित करने के एक मामले में रेलवे पुलिस ने स्थानीय कप्तानगंज थाने में 19 अगस्त 2008 को भारतीय रेलवे एक्ट के तहत लल्लू के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था।
विधायक अजय कुमार लल्लू पर आरोप है कि उनके नेतृत्व में रेल लाइन पर धरना प्रदर्शन कर ट्रेन रोकी गई थी। इससे रेल संचालन प्रभावित हुआ था। जिसको लेकर रेलवे पुलिस ने रेल अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया। जिसकी सुनवायी कोर्ट में लम्बित थी। उक्त प्रकरण की सुनवाई के दौरान विधायक गैरहाजिर चल रहे थे। कोर्ट ने उनके खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी किया और डुग्गी पिटवाने का आदेश जिम्मेदारों को दिया था। इसके बाद भी विधायक उपस्थित नही हुए तो न्यायालय ने उक्त मुकदमें की सुनवाई के बाद गिरफ्तारी व कुर्की का वारंट जारी किया है साथ ही न्यायालय ने गैर जमानती वारंट का तामील कराने के लिए पुलिस अधीक्षक कुशीनगर को भी पत्र लिखा है।
हालाकि शुक्रवार को इससे संबंधित एक पुरानी खबर सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद यह प्रकरण फिर से चर्चा में है। छठ पूजा के लिए कुशीनगर में सेवरही अपने आवास पहुचे कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष व तमकुहीराज के विधायक अजय कुमार लल्लू ने बताया कि पिछले महीने प्रकाशित खबर पढ़कर उन्हें गिरफ्तारी व कुर्की आदेश की जानकारी हुई थी। वे इस मामले की अगली तारीख पर कोर्ट के समक्ष उपस्थित होंगे। विधायक ने कहा कि कांग्रेस न्यायपालिका का पूरा सम्मान करती है।
वही इस संबंध में पुलिस अधीक्षक कुशीनगर विनोद कुमार मिश्रा का कहना है छठ पर्व सम्पन्न होने के बाद सेवरही एसओ से इस प्रकरण की जानकारी ली जाएगी और न्यायालय के नोटिस का तामिला कराया जाएगा।