Current Crime
उत्तर प्रदेश राज्य

बुलंदशहर हिंसा- इंस्पेक्टर की हत्या में इस्तेमाल पिस्टल अभी भी नहीं मिली, रहस्य बरकरार

बुलंदशहर (ईएमएस)। यूपी के बुलंदशहर में गोकशी की अपवाह के चलती भड़की हिंसा में इंस्‍पेक्‍टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या होने के मामले में पुलिस ने दावा किया है कि दोनों ही मामले के मुख्य आरोपियों को गिरफ्तार करके केस को हल कर लिया गया है। दो अहम केस हल करने के दावों के बीच पुलिस यह नहीं बता पाई है कि हिंसा के पीछे क्या कोई ‘साजिश’ थी और सुबोध की हत्या जिस पिस्तौल से हुई वह कहां गई? पुलिस ने गोकशी मामले में सिर्फ इतना कहा है कि बुलंदशहर में 1 और 2 दिसंबर की रात चार गायों के कत्ल के मामले में गिरफ्तार किए गए आठों आरोपियों का कोई पॉलिटिकल कनेक्शन नहीं है। कथित रूप से इसी वजह से वहां हिंसा हुई थी।
पुलिस ने गोकशी मामले के मुख्य आरोपी हारून खान मोहम्मद को शनिवार को गिरफ्तार किया था। भाजपा के स्थानीय नेता आरोपियों का संबंध समाजवादी पार्टी से होने का दावा कर रहे हैं। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुलंदशहर में हुई हिंसा को साजिश करार दिया है। हालांकि पुलिस की तरफ से आए बयानों ने इस बात का कोई जिक्र नहीं है। पुलिस का यही कहना है कि गिरफ्तार किए गए आठों आरोपियों ने हारून और नदीम की रहनुमाई में दो लाइसेंसी बंदूकों से चार गायों की गोली मारकर हत्या कर दी थी। उन्होंने गाय के शवों को खेतों में फेंक दिया। असल में पुलिस का कहना है कि आरोपियों को 18 से 29 दिसंबर के बीच गोकशी की ऐसे ही योजनाएं बनाते हुए गिरफ्तार किया है।
इसी तरह, इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या मामले में पुलिस का दावा है कि उसने मामले के मुख्य आरोपी प्रशांत नट को गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि इसमें चौंकानेवाली बात यह है कि पुलिस ने अदालत से उसकी एक दिन की भी कस्टडी नहीं मांगी और उसे सीधे जेल भेज दिया गया। सुबोध की हत्या जिस पिस्तौल से हुई थी, वह अब तक बरामद नहीं हुई है। इस मामले में अहम सबूत है जिसके नहीं मिलने पर मुमकिन है कि मामला अदालत में कहीं ठहर नहीं पाए। यूपी पुलिस का कहना है कि जिस पिस्तौल से सुबोध की हत्या हुई, वह उनकी लाइसेंसी बंदूक थी जिसे नट ने छीनकर उन्हें गोली मार दी थी। शनिवार को पुलिस ने मीडिया के सामने एक ऐसे ‘चश्मदीद गवाह’ को पेश किया, जिसने इंस्‍पेक्‍टर पर नट को गोली चलाते देखने का दावा किया है। पुलिस अपने पास ऐसा वीडियो होने का दावा कर रही है, जिसमें नट इंस्पेक्टर से बहस करता नजर आता है। हालांकि ऐसा कोई वीडियो सामने नहीं आया है जिसमें फायरिंग की घटना रिकॉर्ड हुई हो।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: