नानू गंग नहर पुल दे रहा बड़े हादसे को न्योता , रालोद ने मानव श्रंखला बनाकर जताया विरोध

0
245

सरधना (मेरठ) अंग्रेजी शासनकाल के दौरान जनपद से गुजर रही गंगनहर पर बनाया गया पुल आज जर्जर हालत में पहुंच गया हैं। आलम यह है कि गंग नहर पुल से गुजरना किसी खतरे से कम नहीं, पर बावजूद इसके लोग जान हथेली पर लेकर इस पुल से सफर तय कर रहे हैं। पुल की मरम्मत कराने की मांग को लेकर रालोद नेताओं ने जर्रार पुल पर श्रंखला बनाकर अपना विरोध जताया और जल्द से जल्द पुल की मरम्मत कराए जाने की मांग की।
मेरठ करनाल हाइवे पर गांव नानू के निकट गंगनहर पर बने पुल का निर्माण ब्रिटिश शासन काल में में हुआ था। पुल की मियाद पूरी हो चुकी है, जर्जर हालत में पहुंच चुके इस पुल से अभी भी भारी व छोटे वाहनों का धड़ल्ले से आवागमन हो रहा है। हालांकि इसकी उम्र अभी की पूरी हो चुकी है। मेरठ करनाल के हाइवे का यह अति महत्वपूर्ण पुल है। इसी पुल से वो भी वाहन गुज़रते है जो मेरठ दहरादून के एन 58 पर बने टोल टेक्स की बचत करते है। इस पुल से रोजाना कई गांवों के किसान ट्रैक्टर ट्राली व बुग्गी आदि लेकर निकलते हैं। हलाकि जब मेरठ करनाल मार्ग बना उस समय पुलके निर्माण की भी चर्चा रही लेकिन बाद में मामला खटाई में चला गया।
इस पुल की ऐसी हालत हो चली है की कभी भी बड़े हादसे का कारण बन सकता है। राजमार्ग होने के कारण इस पुल के ऊपर से सैकड़ों हल्के व भारी वाहन 24 घंटे गुजरते है। कावड यात्रा के दौरान इस संबंध में जिलाधिकारी से बात की गयी थी तब उन्होंने ने इसकी जाँच कराकर मात्र दो दिनों के भीतर मरम्मत कराने का आश्वासन दिया है। जांच के बाद काम भू शुरू हुआ था लेकिन बाद में लटक गया। बुद्धवार की सुबह रालोद नेता नानू गंग नहर पुल पर पहुंचे और मानव श्रंखला के जरिये अपना विरोध जताया इसके बाद अधिकारीयों को ज्ञापन देकर पुल की मरम्मत कराए जाने की मांग की। इस अवसर पर डॉ राजकुमारसांगवान आगा ऐनुद्दीन शाह संजय चौधरी सोनू गुर्जर कुलवंत सोलंकी रतनपाल सिंह धर्मपाल निलोहा कमल सिंह रजत सिंह रतनपाल सिंह गौरव जिटौली विहान तोमर विकास गुर्जर आदि शामिल रहे।