नं‎दिता दास ने कहा- अलग छाप छोड़ेगी उनकी फिल्म मंटो

0
18

मुंबई (ईएमएस)। अभिनेत्री और निर्देशक नंदिता दास का मानना है ‎कि उनकी हालिया फिल्म ‘मंटो दुनिया भर में खासतौर पर पाकिस्तान में प्रदर्शित होगी, क्योंकि फिल्म ऊर्दू लेखक सादत हसन मंटो के जीवन पर आधारित है जो बंटवारे के बाद पाकिस्तान चले गए थे। साउथ एशियन फिल्म फेस्टिवल में मंटो की स्क्रीनिंग के बाद उन्होंने बताया ‎कि मेरी इच्छा है कि बॉलीवुड की कई दूसरी फिल्मों की तरह इसे पाकिस्तान में दिखाया जाए। कोरियाई फिल्मोत्सव में फिल्म की स्क्रीनिंग के लिये बुसान रवाना होने से पहले दास ने कहा ‎कि मंटो पाकिस्तान में दिखाई जानी चाहिए क्योंकि लेखक एक भारतीय थे और पाकिस्तानी भी। आपको बता दें कि बॉलीवुड में जीवनी आधारित फिल्मों की बाढ़ के बीच नंदिता दास को उम्मीद है कि उनकी फिल्म मंटो अलग छाप छोड़ेगी। यह फिल्म मशहूर लघुकथा लेखक मंटो के उस दौर की कहानी कहती है जब सांप्रदायिक हिंसा चरम पर थी। बतौर निर्देशक नंदिता दास की यह दूसरी फिल्म है। फिल्म में वर्ष 1946 से शुरू लेखक के सबसे अधिक उथल-पुथल भरे एवं रचनात्मक दौर को दर्शाया गया है।