Breaking News
Home / अन्य ख़बरें / सपा के यूथ का भाजपा के यूथ पर तर्कपूर्ण पंच हमारे सीएम के कार्यक्रम में हमे मिला था मंच

सपा के यूथ का भाजपा के यूथ पर तर्कपूर्ण पंच हमारे सीएम के कार्यक्रम में हमे मिला था मंच

वरिष्ठ संवाददाता (करंट क्राइम)

गाजियाबाद। राजनीति में मुद्दों और विचारधारा के साथ-साथ युवा वर्ग हमेशा एक-दूसरे से तुलना भी करता है। यूथ नेता अपनी राजनीति की तुलना अन्य दलों के युवा नेताओं की राजनीति से जरूर करते हैं। इन दिनों यूथ राजनीति का भाजपा में बुरा हाल है। यूथ नेता खामोश हैं लेकिन अन्य दलों में तो उनकी खामोशी को लेकर चर्चा चलती ही है।
सरकार बनने से पहले भाजपा में युवा कार्यकर्ता सम्मेलन भी हुए और युवाओं ने प्रदर्शन में बढ़-चढ़कर भाग भी लिया। कलेक्ट्रेट पर पुतला फंूकने के कार्यक्रम के दौरान युवा नेताओं ने पुलिस को बुरी तरह छका दिया था। पुतला ही नाले में गिर गया था। धीरज शर्मा की भागदौड़ देखने लायक थी। युवा नेता हरिओम पांडेय तो पुतला बनाने और उसे लाने के चक्कर में जेल तक पहुंच गए थे। भाजपा के यूथ नेताओं का जोश देखने लायक होता था और जीत वाले रथ को लाने में उनकी सबसे बड़ी भूमिका रही है। धीरज शर्मा के पैर में फैक्चर होने के बावजूद भी वह युवा खेल संगम में पूरी तरह एक्टिव रहे। गौरव चोपड़ा यूथ नेताओं में सबसे ज्यादा एक्टिव रहते हैं। महेन्द्र यादव, रवि भाटी, बब्बल यादव, यूथ नेताओं में सक्रिय चेहरा हंै। अन्य कई नाम ऐसे हैं जो यूथ राजनीति में बेहद सक्रियता के साथ काम कर रहे हैं। लेकिन सरकार आने के बाद यूथ चेहरों को वो कुछ भी नहीं मिला, जिनकी उन्हें अपेक्षा थी और जिसके वह हकदार भी थे। यूथ मोर्चा आज भी घोषणा का इंतजार कर रहा है।
वहीं दूसरी तरफ सपा के यूथ नेता पूरी तरह एक्टिव हैं। विपक्ष में होने के बाद भी उनके तेवर क्रांतिकारी है। सपा अपने यूथ नेताओं को सम्मान भी दे रही है। हाल ही में जब यूथ नेताओं ने मुख्यमंत्री का पुतला फंूकने का प्रयास किया और यूथ नेता जीतू शर्मा ने तो हज हाउस पर पुतला फंूक भी दिया। इस मामले में पार्टी के जिला और महानगर प्रभारी यूथ नेताओं की खिलाफत कर रहे थे। वही इसके ठीक उलट एमएलसी राकेश यादव सबसे पहले अपने यूथ नेताओं के समर्थन में आएं।
पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी युवाओं की पीठ थपथपाई। यह अंतर भाजपा और सपा के बीच दिखाई देता है। करंट क्राइम मुख्यालय पहुंचे सपा के युवा नेताओं ने कहा कि सपा ही युवाओं का सम्मान करती है। जब हमारी सरकार थी तो मुख्यमंत्री अखिलेश यादव हज हाउस का उद्घाटन करने आए थे। हमारे मुख्यमंत्री के मंच पर सपा के यूथ नेताओं को पूरा स्थान मिला था। भाजपा वाले बताए कि हमे तो सरकार बनने के बाद भी तुरंत पद मिल गए थे। उनकी सरकार बनने के बाद भाजपा युवा मोर्चा के पद अब तक क्यों होल्ड हैं। जब भाजपा सरकार में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गाजियाबाद आए तो भाजपा के युवा नेताओं को मंच पर जगह तक नहीं मिली। अब भाजपा वाले कुछ भी तर्क दे लेकिन यह सही बात है कि सपा के यूथ नेताओं की बात में दम है। उन्हें सरकार में भी सम्मान मिला और विपक्ष में पार्टी है, तब भी यूथ नेताओं को खुद राष्ट्रीय अध्यक्ष सपोर्ट करते हैं।

Check Also

सीएम के दरबार में फाइलों के साथ हाजिर हुआ नगर निगम अमला

Share this on WhatsAppगाजियाबाद (करंट क्राइम)। शहर के विकास को लेकर सरकार गंभीर है। सरकार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code