Breaking News
Home / अन्य ख़बरें / किस भाजपा पार्षद को दी दरोगा ने जेल भेजने की धमकी

किस भाजपा पार्षद को दी दरोगा ने जेल भेजने की धमकी

वरिष्ठ संवाददाता (करंट क्राइम)

गाजियाबाद। जब सरकार नहीं आई थी, तब भाजपा का नारा था कि वह भयमुक्त प्रदेश की स्थापना कर देंगे। सरकार आई और सबसे पहले बदमाशों ने नवनिर्वाचित मेयर आशा शर्मा का पर्स लूट लिया। इसके बाद मौजूदा निगम पार्षद मीना भंडारी की चेन बदमाश लूटकर ले गए। भाजपा महामंत्री मानसिंह गोस्वामी भी लुट गए और भाजपा महानगर कोषाध्यक्ष संजीव गुप्ता के यहां 8 लाख की चोरी भी हो गई।
इसी बीच निगम चुनाव आ गए और चोरों ने तीन बार के मंत्री रहे बालेश्वर त्यागी के घर से उनकी स्कूटी ही चोरी कर ली। खास बात यह है कि इन सभी मामलों के मुकदमे थानों में दर्ज है और एक भी घटना का खुलासा पुलिस आज तक नहीं कर सकी है। अब पुलिस खुलासे के बजाए भाजपा नेताओं को धमकाने पर आ गई है।
ताजा मामला एक भाजपा पार्षद से जुड़ा है। भाजपा पार्षद की कार को एक ट्रक ने पीछे से टक्कर मार दी। इसके बाद भाजपा पार्षद मौके पर पहुंचे और यहां ट्रक चालक और भाजपा पार्षद के बीच नुकसान की भरपाई को लेकर बात हुई। खास बात यह है कि इस पूरी बातचीत में न कठोर शब्दों का प्रयोग हुआ और न ही रोडरेज जैसा कोई सीन था। ट्रक चालक ने कहा कि वह ट्रक मालिक को बुला लेता है।
पार्षद ने कहा कि तब तक तुम ट्रक के कागज हमे दे दो और नुकसान की भरपाई को लेकर बातचीत हो जाएगी। चंूकि मामला बातचीत से सुलझ रहा था इसलिए भाजपा पार्षद ने पुलिस को कोई कॉल नहीं की। इसी बीच ट्रक ड्राइवर ने चुपचाप जाकर पुलिस को फोन कर दिया।
अब पुलिस जानती थी कि मामला भाजपा पार्षद का है। लेकिन इसके बाद भी दरोगा ने सीधे भाजपा पार्षद को फोन मिलाया। दरोगा ने पार्षद से कहा कि वह पार्षद को लूट के मामले में जेल भेज देगा। अब पार्षद ने कहा कि कार में टक्कर मेरी लगी। नुकसान मेरा हुआ, गाली मैंने नहीं दी और जेल भी मैं जाऊंगा। बताते हैं कि दरोगा ने पार्षद को लूट के मामले में जब जेल भेजने की धमकी जारी रखी तो पार्षद भी फोन काटकर मौके पर आ गए। यहां भी दरोगा के तेवर कम नहीं हो रहे थे।
बताया जाता है कि इसके बाद पार्षद ने पुलिस के एक बड़े अधिकारी को फोन किया और उन्हें पूरा मामला बताया। तब जाकर दरोगा के तेवर ढीले हुए। दरोगा की शैली बता रही थी कि भाजपा पार्षद होने का उन पर कोई असर नहीं पड़ने वाला है, वह तो भला हो पुलिस अधिकारी का जिन्होंने इस मामले में तुरंत एक्शन लिया। वरना दरोगा जी ने एक्सीडेंट को लूट का टर्न देना शुरू कर ही दिया था।

Check Also

सामाजिक सरोकारो के इस जज्बे को सलाम

Share this on WhatsAppना राजनीतिक टिकट चाहिये ना पद चाहिये वरिष्ठ संवाददाता (करंट क्राइम) गाजियाबाद। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *