सीसी टीवी कैमरों की व्यवस्था सुचारू रखें दिल्ली में पैदल चलना खतरनाक, मरने वालों की तादाद 10 फीसदी बढ़ी हजारों बंदर, पकड़नेवाला सिर्फ एक, एमसीडी को बंदर पकड़ने वालों की तलाश हिंदू महासभा ने छात्रों का निलम्बन वापस पर जताई नाराजगी युवती की गर्दन और हाथ कटी मिली लाश मोदी और राहुल की लोकप्रियता में ज्यादा अंतर नहीं रहा केजरीवाल और अमरिंदर सिंह की लोकप्रियता बरकरार हार्दिक पटेल मध्यप्रदेश में सक्रिय 82 साल की उम्र में पक्की हुई शांति देवी फसल के पैसे सीधे पहुंचेंगे किसानों के खाते में भगोड़े शराब कारोबारी माल्या की गाड़ियां होंगी नीलाम
Home / अन्य ख़बरें / पूर्व प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति अल्तमस कबीर का निधन
Chief Justice of India, Justice Altamas Kabir during a function to symbolically felicitate the Army, Air Force,ITBP,NDMA and NDRF for the heroic deeds in Uttarakhand Disaster, in New Delhi on Monday

पूर्व प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति अल्तमस कबीर का निधन

कोलकाता| भारत के पूर्व प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति अल्तमस कबीर का रविवार को निधन हो गया। वह 68 वर्ष के थे। वह पिछले कुछ दिनों से बीमार थे।

कबीर के निधन पर शोक जताते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि देश ने एक कानूनी प्रकाशपुंज खो दिया।

उन्होंने एक ट्वीट में कहा, “मेरी संवेदनाएं उनके परिवार/साथियों के साथ हैं। भारत तथा बंगाल ने एक कानूनी प्रकाशपुंज खो दिया।”

कबीर देश के 39वें प्रधान न्यायाधीश बने थे, जिनका कार्यकाल 29 सितंबर, 2012 से 19 जुलाई, 2013 तक था।

19 जुलाई, 1948 को जन्मे कबीर ने 1973 में एक वकील के रूप में अपना करियर शुरू किया था। उन्होंने जिला न्यायालयों तथा कलकत्ता उच्च न्यायालय में दीवानी तथा आपराधिक दोनों ही मामले देखे।

उन्हें छह अगस्त, 1990 को कलकत्ता उच्च न्यायालय में स्थायी न्यायाधीश नियुक्त किया गया था और एक मार्च, 2005 को वह झारखंड उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश बने।

वह नौ सितंबर, 2005 को सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश बने थे।

Check Also

नगर पालिका परिषद द्वारा छोड़े गये आधे अधूरे कामो के चलते दुकानदारों को हो रही परेशानी बरसात के बाद हुआ दुकानो के आगे जलभराव।

नगर पालिका परिषद द्वारा छोड़े गये आधे अधूरे कामो के चलते दुकानदारों को हो रही …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *