Home / सम्पादकीय

सम्पादकीय

समाजवादी आवाज की गंूज

manoj kumar

सपा के थिंक टैंक कहे जाने वाले प्रोफेसर रामगोपाल यादव की दल में विदाई और वापसी दोनों ही ऐतिहासिक अंदाज में हुई। ऐतिहासिक इस मायने में है कि प्रोफेसर रामगोपाल यादव की गिनती समाजवादी पार्टी के थिंक टैंक नेताओं में होती है। प्रोफेसर रामगोपाल यादव की सबसे बड़ी खूबी किसी भी मुद्दे पर निष्पक्ष और निर्भीक राय रखना है। रामगोपाल …

Read More »

बेस्ट आॅफ लक अखिलेश

manoj kumar

संकल्प और इरादों से ही बड़े से बड़ा लक्ष्य प्राप्त किया जाता है। खेमे बंदी के माहौल में राजनीति में एक युवा चेहरे ने पहली बार अपने दम पर परिवर्तन की ताल ठोकी है। एक मुख्यमंत्री के रूप में अपनी सरकार की उपलब्धियों को लेकर कोई युवा रथ यात्रा लेकर जनता के बीच निकला है। इस पूरे घटनाक्रम को समाजवादी …

Read More »

मुद्दा: तलाक, तलाक, तलाक

manoj gupta jee

महिलाओं पर बढ़ रहे अत्याचारों को लेकर पूरे देश में एक राय बन रही है कि इस स्थिति के लिए कौन जिम्मेदार है। देश की आधी आबादी कही जाने वाली महिलाओं के अधिकारों को लेकर केंद्र सरकार ने न्यायलयों को एक राय क्या दी पूरे देश में मानो तूफान आ गया। बात मुस्लिम महिलाओं के हकों को लेकर उठाई गई …

Read More »

नववर्ष में पेश करें देश की नई तस्वीर

manoj kumar

फिर से एक साल गया और दूसरा साल आ गया। हर साल हम कुछ नया करने का सकंल्प लेते हैं। इन संकल्पों पर कईं बार विकल्प हावी हो जाते हैं। इस वर्ष को भी कई उपलिब्धियों के लिये याद रखा जायेगा। मोदी लहर को दिल्ली वालों ने ऐसा झटका दिया कि पूरा विपक्ष तीन पर सिमट गया। बिहार मे गठबंधन …

Read More »

मुलायम सिंह का जन्मदिन और कार्यकर्ताओं में उत्साह

manoj kumar

22 नवंबर 1939 को इटावा जिले के ग्राम सैफई में धरती पुत्र के नाम से विख्यात सपा मुखिया मुलायम सिंह का जन्म हुआ था। सामान्य परिवार में जन्में मुलायम सिंह यादव की गिनती आज राजनीति के उन शीर्ष चेहरों में होती है, जिनके बिना भारत की राजनीति की परिभाषा गढ़ना संभव नहीं है। मुलायम सिंह भारतीय राजनेता के रूप में …

Read More »

भटकती युवा पीढ़ी और गुनाहगार हम

manoj kumar

समाज का युवा किस दिशा में चल रहा है यह अब एक बड़े चिंतन का रूप लेता जा रहा है। रविवार के एक दैनिक अखबार के अंक में एक खबर को पढ़कर यह अहसास हुआ कि आज की युवा पीढ़ी बड़े भटकाव की ओर है और माता-पिता, समाज के जिम्मेदार लोग और कहीं न कहीं स्कूल और स्कूलों में पढ़ाने …

Read More »

सेल्फी नहीं, हेल्पी बनें

manoj kumar

सेल्फी के चलन ने देश-दुनिया में कई पैमानों को बदल दिया है। सेल्फी अब एक शौक नहीं, जुनून बन गया है। (ghaziabad hindi news) सोशल मीडिया पर जिसकी जितनी आकर्षक और लीक से हटकर सेल्फी होगी, उस पर ‘लाइक्स’ भी उतने ही ज्यादा आएंगे। सेल्फी के दीवाने अब ज्यादा से ज्यादा लाइक्स बटोरने की होड़ में कोई भी जोखिम उठाने …

Read More »

हाय हाय महंगाई

manoj kumar

आज का दौर महंगाई का दौर है। आज सभी जरूरत की चीजों के मूल्य आसमान छू रहे हैं। आम आदमी मंहगाई की गिरफ्त में निरंतर आता जा रहा है और मंहगाई पर कभी लंबे चौड़े भाषण देने वाले नेता इन दिनों अपनी जुबान को सिलाकर घर बैठ गये हैं। जनता को छोड़ दिया है अपने हाल पर और जनता इन …

Read More »

मानवता हो रही है तार-तार

manoj kumar

देश की राजधानी दिल्ली में वर्ष-2013 में हुए रेपकांड के बाद समूचे देश में एक अलख जगी थी और महिला की सुरक्षा और उन्हें आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में पहल की गई थी। केंद्र सरकार की ओर से महिलाओं को सुरक्षित रखने की दिशा में उठाये गये प्रभावी कदमों के बावजूद भी इस ओर रोकथाम लगती हुई नजर नही आ …

Read More »

वैकल्पिक व्यवस्था बेहद जरूरी

manoj kumar

कई बार देखने को मिला है कि हड़ताल हो जाती है और बड़ी संख्या में जनता को समस्याओं से दो चार होना पड़ता है। हड़ताल कभी लंबी चलती है तो कभी कुछ दिन चलने के बाद समाप्त भी हो जाती है, लेकिन लोगों की समस्याओं की तरफ किसी भी सरकारी तंत्र का कोई ध्यान नहीं जाता है। (ghaziabad hindi news) …

Read More »