Breaking News
Home / अन्य ख़बरें / भाजपा नेता गजेंद्र हत्याकांड का खुलासा

भाजपा नेता गजेंद्र हत्याकांड का खुलासा

शार्प शूटर नरेंद्र फौजी गिरफ्तार, पूर्व विधायक अमरपाल शर्मा पर संगीन आरोप, पुलिस जुटी तलाश में
करंट क्राइम

गाजियाबाद। खोड़ा में भाजपा नेता गजेंद्र भाटी उर्फ गज्जी हत्याकांड का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। पुलिस ने हत्याकांड में शामिल मुख्य शूटर नरेंद्र फौजी को गिरफ्तार कर लिया है। नरेंद्र फौजी साहिबाबाद थाना क्षेत्र में हुए पूर्व पार्षद प्रदीप चौधरी उर्फ टीटी हत्याकांड में भी शामिल था। इस मामले में दूसरा आरोपी राजू पहलवान अभी फरार है। जिसकी तलाश में पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है।
इस संबंध में पुलिस कप्तान हरिनारायण सिंह ने प्रेसवार्ता में बताया कि इस मामले में छानबीन के बाद मुख्य शार्प शूटर नरेंद्र गुर्जर उर्फ फौजी पुत्र सियाराम निवासी लोनी को गिरफ्तार किया गया है। जिसके पास से एक 30 बोर की पिस्टल एवं अपाचे बाइक बरामद की गई है। पुलिस कप्तान ने कहा कि पूछताछ में नरेंद्र फौजी ने बताया लगभग ढाई माह पहले गजेंद्र उर्फ गज्जी भाटी की बढ़ती लोकप्रियता और पूर्व विधायक अमरपाल शर्मा से राजनैतिक प्रतिद्वंद्विता के चलते आगामी चेयरमैन के चुनाव में प्रभावी टक्कर देने को लेकर अमरपाल शर्मा के कहने पर फौजी ने गज्जी को धमकाया था। लेकिन गज्जी फिर भी अमरपाल शर्मा का विरोध जारी रखा। जिसके बाद गत 26 अगस्त को अमरपाल शर्मा के जावली फार्म हाउस लोनी पर गज्जी को मारने की योजना बनाई गई। जिसमें अमरपाल शर्मा, राजू पहलवान, मुकेश उर्फ बिट्टू प्रधान निवासीगण भूपखेड़ी लोनी शामिल हुए थे। अमरपाल शर्मा ने नरेंद्र फौजी को 10 लाख रुपए की सुपारी दी। जिसमें से 50 हजार नगद दिए।
फौजी ने उसमे से 25 हजार रूपए राजू पहलवान को दिए। यही नहीं अमरपाल शर्मा ने एक पिस्टल भी नरेंद्र फौजी को दी थी। साथ ही कहा था कि ईद वाले दिन वह आम जनता से ईद मिलन करते रहेंगे और इसी बीच गज्जी को मौत के घाट उतार दिया जाए। जिसके चलते उन पर किसी का शक ना पहुंचे।
सरेआम करता था गाली गलौच गज्जी
इस संबंध में आरोपी नरेंद्र फौजी ने बताया कि गजेंद्र और सूरज की सरेआम गाली-गलौच एवं मारपीट उतारू हो जाता था। जिसके चलते अमरपाल शर्मा ने कहा था कि गजेंद्र को मार दो। क्योंकि वह आने वाले नगर पालिका चुनाव में भी खतरा उत्पन्न कर सकता है। यही नहीं फौजी ने कैमरे के सामने बताया कि पूर्व पार्षद प्रदीप टीटी की हत्या भी अमरपाल शर्मा का हाथ था। फौजी ने बताया कि उसे पुलिस ने उस समय गिरफ्तार कर लिया। जब वह हत्या करने के बाद मिलने वाले पैसे लेने अमरपाल शर्मा के पास जा रहा था। उसी समय पुलिस ने उसे पसौंडा के पास पकड़ लिया।

Check Also

बलवंत सिंह रामूवालिया करेंगे कार्यकारिणी में मतदान

Share this on WhatsAppवरिष्ठ संवाददाता (करंट क्राइम) गाजियाबाद। निगम कार्यकारिणी सदस्यों के लिए हो रहे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *