सबरीमला पर पुनर्विचार याचिकाओं की सुनवाई की तिथि पर फैसला आज आईटीओ स्काईवॉक पर इश्क फरमा रहे जोड़ों की निगरानी करेगें बाउंसर्स दिल्ली हाईकोर्ट के चार जजों ने ली पद व गोपनीयता की शपथ बिना बताये घर से गये युवक का शव पेड पर लटका मिला राहुल को शोभा नहीं देता बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान का माखौल उड़ाना : भाजपा पीटने की धमकी देने वाले श्रीसंत अखाड़े में नहीं झेल सके दो वार अनावरण कार्यक्रम के लिए सीएम और राज्यपाल को दिया न्योता मुद्दों से जनता का ध्यान भटकाती है भाजपा सरकार: गहलोत पीएम मोदी फेंकू तो सीएम योगी हैं ठोकू: राज बब्बर महापुरूषों को सम्मान देकर मोदी सरकार इतिहास को ‘राइट’ कर रही : नकवी पिछली सरकार एक ही परिवार को बढ़ावा देती रही
Home / अन्य ख़बरें / बिहार : मरीज की मौत के बाद अस्पताल में हंगामा, एंबुलेंस फूंकी

बिहार : मरीज की मौत के बाद अस्पताल में हंगामा, एंबुलेंस फूंकी

मुजफ्फरपुर| बिहार के मुजफ्फरपुर क्षेत्र के सबसे बड़े अस्पताल, श्री कृष्ण मेमोरियल कॉलेज अस्पताल (एसकेएमसीएच) में शुक्रवार तड़के एक मरीज की मौत के बाद जमकर हंगामा हुआ। इस घटना के बाद स्थानीय लोग और जूनियर डॉक्टर आमने-सामने आ गए और जमकर बवाल किया। इस दौरान तीन एंबुलेंस में आग लगा दी गई और कई अन्य वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया।
पुलिस के अनुसार, बेतिया से आए एक मरीज की इलाज के दौरान मौत हो गई। मृतक के परिजनों ने जूनियर डॉक्टर पर इलाज में लापरवाही करने का आरोप लगाते हुए हंगामा किया। आरोप है कि इसी दौरान जूनियर डॉक्टरों ने मृतक के परिजनों के साथ मारपीट भी की। इसके बाद स्थानीय लोग भी मृतक के परिजन के समर्थन में आ गए और जमकर हंगामा किया।
एसकेसीएच के सामने की सड़क को जाम कर लोगों ने पत्थरबाजी शुरू कर दी, जिसके जवाब में जूनियर डॉक्टर भी एकजुट होकर पथराव और तोड़फोड़ करने लगे। इस पथराव में दोनों तरफ से करीब 10 लोगों के घायल होने की सूचना है।
घटनास्थल पर पहुंचे मुजफ्फरपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक विवेक कुमार ने बताया कि अस्पताल में अतिरिक्त पुलिस बलों को तैनात कर दिया गया है और मामले की छानबीन की जा रही है।
उन्होंने कहा कि दोनों पक्षों के लोगों से बातचीत कर स्थिति सामान्य करने की कोशिश की जा रही है। कुमार ने बताया कि मामले में विधिसम्मत कार्रवाई की जाएगी।

Check Also

रेल लाइनों का विद्युतीकरण होने से हर साल होगी 13,500 करोड़ की बचत

रामेश्‍वरम (ईएमएस)। रेलवे लाइनों का विद्युतीकरण हो जाए, तो भारतीय रेलवे को हर साल 13,500 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *